Tuesday, May 31, 2011


होश के फूल खिलना हैं जारी
मदहोशियों से छूटती जातीं हैं यारी...

खौफज़दा थे कभी मेरे हर कदम
अब तो मस्ती का आलम है तारी...

मुझमे और मेरे ख्यालों में अब वो दोस्ती न रही
हाँ...फासलों से मोहब्बत है बादस्तूर जारी...

हसरतों में दामन उलझाने की आदत भी अब जाती रही
क्या करें...की इश्क का जूनून है सर पे भारी...

मुझे फ़क़त मेरा बदन समझने की भूल न कर, ए गुलबदन
मैं वो शय हूँ जिसकी अक्ल गयी है मारी...

आती-जाती सांसें यूँ ही रुक जाएँगी दफ्फतन
लाख करलो तुम ज़िन्दगी की तरफदारी...

खामोश बैठ देखता हूँ अब मैं सब-कुछ
बेहिसाब है यहाँ उसकी कलाकारी...

अजब है ज़माने में उसकी कलाकारी
एक ही रंग से मारे हजार रंगों की पिचकारी...

Saturday, May 28, 2011

Limiting - a big stupidity

 LIVE IN LIMITS - लिमिट में रहो !!

how man sees this world
is his perception...
He sees not what  IT IS
but sees what his imagination is...

What appears as restless pedalling or struggle of a duckling is a natural effort on duck's part to stay afloat....
What appears as calm, serene, peaceful demeanour of a duck is just a natural posture or probably a natural wait...
Man but., is known to think egoistically...
His mind, full of ego, does not allow him to find pleasure in plain and simple facts of life...
Simplicity seems like a curse to him.

He thinks happiness is bliss...
He thinks that happiness is dependent on a reason...
He thinks that happiness can be achieved...
He knows not that happiness, because it is dependent on a reason can never beget to become everlasting, unconditional and natural bliss.

Mind ; it keeps man always busy...
Mind ; it keeps him either in pain or in sorrow by employing a simple trick by making us either think of the past or by coaxing us to dream f that future which is not...
Time to wake up to the Now & Here...isn't it...??

Ideas & Dreams are undoubtedly a rich source of self-fulfillment...
But ;
Ideas & Dreams, when they are generated to earn only name, fame and money, fulfill us not...
They may fill our coffers but our emptiness they fulfill not.

Who would want his friends & relatives to die or cry when he dies or cries...??
But ;
Today that is what we exactly look forward in a relation...isn't it...??
A true friend, though, would like to see his friends & friendship blossom even when he is or he is not.

yeah...man loves to see his name flash on people's heart & mind through the media of TV, print, computer, etc. etc.
He is prepared to go to any lengths for that fifteen minutes of fame...
Ya...He doesn't even mind stealing...
The easiest way is to type your name below a forwarded text message. 
But ;
Is it the name or the message for which he stood or stands for which should be remembered...??

A man is indeed a failure in the Now&Here ; if he thinks that he will be a success someday.
Success&Failure are indeed twin-faces of the same coin called LIFE...
But ;
LIFE is beyond the constraint of the two.

The limitless is beyond any circumference...
That man chooses to limit himself to a certain pedigree is the biggest insult that man causes on himself.
Limitlessness indeed appears to be a big stupidity to the the genius
but ;
only till such time the genius finds himself to be an integral part of the limitlessness...

Why am i wasting my energies to negate the negative, especially, when i know that the negative gets further charged up with positive negation...???
Because ;
i am a stupid who adopts stupid ways to create something out of this negativity.

i know...i know
Lectures & Lecturers have a certain limit beyond which they are useless
But ;
Lessons & Life are teachers that teach you of beyond limit.

So, now you want me to Shut Up for once & all...
But why..??
Because ;
My words your authenticity & your being...!!
i look at it as a sign of the spirit in you still being alive in spite of your consistent efforts to let your mind rule...

and so...
i won't stop...
Because ;
Man is a bad case....isn't it?

Saturday, May 21, 2011

क़यामत का दिन

एक और पहलु :

बकौल 'नीरज' ;
आदमी को आदमी
बनाने के लिए
जेब कफ़न में
लगाना चाहिए..........
और अब ;
ज़िन्दगी को ज़िन्दा
रखने के लिए
क़यामत का दिन
तय हो जाना चाहिए..........

हर दिन क़यामत सा लगे
ऐसा कोई केलंडर बनाना चाहिए..........

देख सकें हम अपनी-अपनी करतूत
ऐसा कोई आरसा बनाना चाहिए..........

बना सकें हम अपनी साँसों को घड़ी
ऐसा कोई कारख़ाना चाहिए...........

कर सकें हम अपना ही फ़ैसला
ऐसा कोई दिल दीवाना चाहिए..........

और तब...
तह-ए-दिल से कह सकेंगे हम 
की :

ले आओ क़यामत का दिन
हाँ ...
अब मैं तैयार हूँ...

पुकारो मुझे कुछ यूँ
की तोड़ कर सारी ज़ंजीरें
मैं तुममें समा जाऊं...

तुम्हारे-मेरे बीच की
अदम इन दूरियों को
हमेशा-हमेशा के लिए मिटा सकूँ...

लिपटा लो अपने से
मुझे तुम कुछ इस कदर
की मैं खो जाऊं...

ज़िन्दगी हो तुम मेरी
कोई पल-पल तड़पाने वाली मौत नहीं
जी लो तुम मुझे कुछ यूँ
की दुबारा मैं यहाँ लौट न सकूँ...

Thursday, May 19, 2011


जो अधुरापन सा
मालुम पड़ता है
दो प्रेमियों को अपने बीच...
ये वो आधा आखर है प्रेम का
जिसकी बात कबीर करते हैं.....शायद

'शायद' इसलिए लगाया की
हमारे देखे से तो
कोई अधूरापन दीखता नहीं...
इस प्रेम के आधे आखर ने
खुद अधुरा रहकर
हमें पूरा कर दिया है......शायद

'शायद' इसलिए जोड़ा है शायद
की प्रेम अपने-आप में तो पूर्ण है
पर दो प्रेमियों को पूर्ण करने हेतु...
उसे खुद दो दिलों में
बँट जाना पड़ता है.....

इस बार कोई शायदगी
का दोयम एहसास नहीं रेख छोड़ा है प्रेम ने...
पूर्ण में से पूर्ण निकलकर
पूर्णता से
पूर्णता में
पूर्ण ही शेष रह जाता है.....
ये ही पूर्ण की शास्वतता है......शायद

ये वाला 'शायद'
फिर से इस करके रक्खा है मेरे आत्मन...
की ये सत्य
तब तक महज एक तथ्य रहेगा
जब तक स्वयंभू अनुभूत न हो जाए..................................!! 

Tuesday, May 17, 2011



Peaceful co-existence of the opposites that we see thriving and flourishing in the nature is often confused with the dreadful adjustment or compromise that is so very rampant in human relations.

The rose blossoms not inspte or despite of thorns presence but because that is its pre-destined nature. The rose considers not itself a rose neither does it tags itself as the king of flowers.

The rose compares not itself with the thorn - not because it is egoistic or ridiculous to do so but because the rose, just as a thorn does, completely lacks the capacity to distinguish one from the other.

This inability of the rose and the thorn to differentiate makes them naturally true to their nature but then it also keeps them devoid of the feeling of bliss or of any feeling for that matter.

The rose and the thorn are indeed two different entities but then they being part of the same shrub, and that shrub being one eternal part of the limitless garden called life and hence blissfully united in their diversity, is a fact that this rose and thorn will never get to realise.

But then, have not this fact lost its value in the most intelligent species of the planet Earth......??

Each part of this endless universe, but for humans, plays its role to perfection. Every part accomplishes the duty that is been ascribed to it by mother nature without even a hint of superiority or inferiority complex.

Humans, because they have been provided with super-natural powers to think, judge and choose are not pre-destined. Their free-will makes them free of any super-imposed destiny but for that destiny that homo-sapiens themselves choose for them. Humans, hence are not slaves to anybody in this cosmos but for their own sweet will.

This free-will is at once a boon and a curse depending on what choice humans par-take.

The overwhelming pain and suffering that humans go through today is resultant to the egoistic or self-centered choices that humans have indulged into.

The picture is not so rosy but is thornful so far...

It is so, because humans have readily allowed their minds to rule over everything else in this nature.

Every human being is personally responsible for the state that he lives in.

Hitherto, humans, barring a few exceptions here and there, have collectively proved themselves to be a bad case. The society is as good or bad as an individual is because a society is nothing but a group of individuals and even if a single unit is cancerous in nature the whole body is bound to suffer.

Each and every man and yes...YOU are included, has to accept that it is only him who is responsible for the heavenly or hellish state that he is currently in.

Man, till the time he takes not the onus on himself to change will continue to remain a bad case.

It is time to heal self.

read more about this man and his journey at


Saturday, May 14, 2011

प्यार को दोस्ती से
अलहदा कर देखने वाले...
साँसों को धडकनों से
जुदा समझने वाले...
कहना असल में
चाहते हैं शायद...
वो हैं बस..
खुद को जिस्म ही जिस्म जानने वाले...

मान लेते हैं जब ये
खुद को
फ़क़त एक मिटटी का पुतला...
मांगने लगते हैं
हुस्न-ओ-शबाब की
खुद से किस कदर बेगाने हो जाते हैं
नाज़-ओ-अदा पे इतराने वाले...

दीवाना हो जाए
जब कोई
इनके हसीन रुखसार का...
बेशर्म और काहिल कह
दिल ही दिल में
मुस्कुराते हैं
पर्दों से बेपनाह मोहब्बत करने वाले...

रक्खूं जो नियत पाक-साफ़
नज़रें केवल इश्क पर...
नादाँ मुझे समझ
तमीज थोड़ी मुझे बक्षने
दुआ करते हैं
नसीब को बेनसीब समझने वाले...

अपने लिए मांगो
चाहे दूसरों के लिए
भिकारी तुम्हे बना ही देते हैं
दिन-ओ-मजहब के जानने वाले...

बेसब्री पर तुम्हारी
रोटियां लेते हैं अपनी ये सेंक...
शिकायत करो जो तुम
अपने खालीपन की
भूखे का तमगा तुमपर
लगा देते हैं
मुल्ला-ओ-पंडित-ओ-सियासत वाले...

सब्र हो जो तुम में
अब और यहाँ
जो है जैसा है
दिली क़ुबूल का..
देखें फिर किस तरह
चलते है धंधे
मंदिरों, मस्जिदों और नेताओं वाले...

नहीं कहता 'मनीष'
बैठ जाओ तुम
हाथ पर हाथ धर
भगवान् भरोसे...
कर्म करो ख़ुशी-ख़ुशी
बनो न तुम हैवान हवस वाले...

Sunday, May 8, 2011

माँ ही तो है...

महज जब कल्पनाओं की उड़ान हो
तो बासी लगती है
महिमा-मंडित हो जाये जब औरत
तो माँ सी लगती है
माँ  इसलिए महान नहीं की औरत है वो
मुझे पैदा किया
बस इसीलिए महान सी लगती है...

माँ ये है..
माँ वो है..
माँ ऐसी है..
माँ वैसी है..
माँ के लिए ये करो..
माँ के लिए वो करो..
इतना शोरगुल मचा है आज माँ के नाम का
की लगता है की एक ही दिन में सारा प्यार सिमट आया है
कर्तव्यों की इतिश्री हुई
और साल भर की छुट्टी भी हुई...


इस सब हंगामे में
कोई नहीं जानता
की उस औरत का क्या हुआ
माँ भी है..
माशूका भी है..
नानी भी है..
और दादी भी..
बहन भी है..
और है बीवी भी..
मगर इन सब से पहले है वो खालिस इंसान...

ये ठीक है..

की हर औरत माँ हो सकती है
पर इसमें इतना ख़ास क्या
माँ होना एक प्रकृति प्रदत्त उपहार है
जो निभाती है औरत
खुद को पूरा करने के लिए
ठीक उसी तरह..
जैसे ये सारा संसार चलता है
प्राकृतिक नियमानुसार
पर क्या ये सच है
क्या वाकई हम प्राकृतिक रूप से जी रहे हैं.....??


क्यों ना आज ही के दिन
खुद से एक सार्थक सवाल करे हर औरत
और हर वो इंसान
जिसके अन्दर शक्ति-स्वरूप है विराजमान

क्या वो जी रही है अपने प्राकृतिक धर्मानुसार
या फिर...
चल रही है वो मन निर्मित जगत अनुसार...??

अगर से
जी रही है वो धर्मानुसार
उसकी संताने इतनी अधर्मी क्यूँ हुईं जा रही हैं..??
और जो नहीं चल रही वो मनानुसार
पद-प्रतिष्ठा-सम्मान के लिए पागल क्यूँ हुई जा रही है..??
क्यूँ बराबरी करना चाहती है वो इन अधर्मियों से
क्यूँ वो मर्द सी हुई जा रही है..??

वो माँ ही तो है
कोई परम-पूज्य प्रकृति नहीं
क्यूँ फिर माँ होने पर इतना इठला रही है..??

वो माँ ही तो है
जो बो देती है बचपन में ही द्वैत के बीज
पूछती है जब वो अपने अबोध से
ये घिनोना सवाल
पापा ज्यादा अच्छे है या माँ......?

वो माँ ही तो है
जो भर देती हैं अपनी महत्वाकांक्षाओं का ज़हर
पूछती है जब वो अपने नादानी में
बड़े होकर क्या बनना चाहते हो.....?

वो माँ  ही तो है
जो अपने नन्हे में पैदा करती है डर
जिद करतें है वो जब मासूम सी
बना डरावने चेहरे जब वो कहती है
चुप कर...नहीं तो बाबा आ जाएगा - पुलिस ले जाएगा.....!!

वो माँ ही तो है
जो सिखाती है अपने लाडलों को चालबाजियाँ
कहती जब वो एक है और करती कुछ और है.....!!

वो माँ ही तो है
जो डाल देती है अपने अधकचरे अंधविश्वास अपने बच्चों में
बेवजह सर झुकाने को कहती है
जब वो मंदिरों और मस्जिदों में....?

वो माँ ही तो है
जो थोप देती है मजहब अपने कलेजे के टुकड़ों पर
गर्वित हो जब वो कहती है
बप्पा जय-जय करो बेटा.....!!

वो माँ ही तो है
जो कर जाती है झूठ को गरिमामय
अपनी सुविधा के लिए
बड़ी आसानी से जब वो कहती है
अंकल से कहना - पापा घर पर नहीं हैं.....!!

वो माँ ही तो है
जो उकसाती है द्वेष और प्रतिस्पर्धा  की क्रूर  भावनाएँ अपने सपूतों में
बड़ी अदा से ये कहकर की
चिंटू की तरह फर्स्ट आ कर दिखाओ -
तब साइकिल मिलेगी....हाँ !!

वो माँ ही तो है
वो माँ ही तो है
वो माँ ही तो है
पर वो भी क्या करे बेचारी
की उसे उसकी माँ ने
और उसकी माँ को उसकी भी माँ ने
यूँ ही मनानुसार जीना तो सिखलाया था...

वो ही सदियों से  सड़-गल  चुके
वो ही पुराने पाठ - वो ही पुराने संस्कार
घिसट रही है वो अब तक
के जबकि हकीकत ये है की
ज़माना बदल चूका है और वो भी....................!!

Friday, May 6, 2011

इश्क की बातें

इश्क की बातें
बातें है फ़कत - इश्क नहीं,
इज़हार-ए-इश्क बयाँ का नहीं मुतासिर
ये बयाँ तो बयाबाँ ही समझ सकेंगे.......!! 

फिर वो इश्क नहीं जो रंज-ओ-ग़म के आंसू बहाए,
छलक पड़े आँखें शुक्र-ओ-सुकून से तो बात और...
बात ये मगर...
प्रेम-भिखारी नहीं
प्रेम-पुजारी ही समझ सकेंगे........!!

समझ भी आ जाए गर ये बात
तो समझ न बैठना 
तू खुद को शिरी-ओ-फरहाद,
दास्ताँ तेरे इश्कां होने की
तेरे रहम-ओ-करम ही कह सकेंगे.........!!

रहम-ओ-करम वो नहीं
जो करता है तू
दिल-ओ-दिमाग की सुन,
फैसले ये रूहानी
दम-बा-दम अपनी हस्ती मिटाने वाले ही कर सकेंगे.........!!

क्या करें की साल-ओ-साल
लगे रहते हैं हम
खुद को सजाने-सँवारने में,
मजा मगर ये
की मिट्टी में मिलकर ही इश्क के लायक हम हो सकेंगे.........!!

तू ही लुहार,
तू ही सुनार
और जोहरी भी तू ही,
परखता भी तू है
चढ़ाता-उतारता भी तू है
और गलाता भी तू ही है खुद को
भगवान् भरोसे मगर हैवान इंसान न हो सकेंगे.........!!

Wednesday, May 4, 2011

प्रतिष्ठा की भूख

यही तो चाहते हैं
ये ज़माने वाले
ना कोई उनसे नाराज हो
ना किसी से उनको कोई नाराजी रहे..,
राजी हुए जो आप उनसे,
उनकी नासमझियों से
बिठा लिए जाओगे सर पर
सूली तैयार है...
आप तो हमारी नादानियों से
इस कदर
राजी न होईये सरकार..!!
सुना है
आपके अंजुमन में
ग़लतफ़हमियों की कोई जगह नहीं होती
जो होती हैं बला की खुशफहमियाँ
आपके चमन में
सावधान हो जाईये सरकार..!!
ज़िन्दगी की शमशीर तैयार है...
इश्क-ओ-रसूल की बातें
बातें हैं बस
खुद को बचाने की
यूँ कहिये की
खुद को रसूखदार बनाने के लिए
सच ही
गर सच की तलाश है
जिलाना होगा हिम्मत को
चलने को अपनी ही राह
दिखाना होगा ग़ज़ब साहस
तोड़ने को प्रतिष्ठा की चाह
जीना होगा अदम्य
गिराने को भीड़ द्वारा अपनाए गए
पुरातन विश्वास
गलाना होगा सच की आग में
ज़माने के थोपे हुए संस्कार
प्रतिष्ठित करना होगा सत्य को
व्यक्तियों से ऊपर रख
चाहे फिर झूठ
कितना ही बड़ा क्यों ना हो
कहना होगा उसे
ठीक वैसा ही
जैसा वो है
राजनीति का हार
आपके गले पड़ने को तैयार है...

Monday, May 2, 2011

लकीरे...ये मेरे हाथ की

ये मेरे हाथ की
कुछ कहना चाहती है शायद...,

जानता हूँ मगर
की ज़िन्दगी ही है उनकी ज़बान..!!

भाग्य भरोसे जो शास्त्र है टिका,
वो हर दम खूब है बिका,

और क्यूँ ना हो..??

मानव मन सुरक्षा की चाह में ही तो जीता है,
सपनो के बड़े-बड़े घूँट दिन रात वो पीता है

भाता नहीं उसे " कर्मण्ये वाधिकारस्ते.." वाला श्लोक,
फल ही ना मिले तो क्या करना परलोक

हमें तो चाहिए वैभव कृष्ण सरीखा
भले ही फिर वो गीता में ना हो लिक्खा,

" वसुधैव कुटुम्बकम " का नारा भी उसे लगता है फीका,
अपने देश के आगे क्या लगे अमेरिक्का

वेद-पुराण-उपनिषद तो केवल स्वार्थ-सिद्धि के लिए है पीता,
दसों दिशाएं " उसकी " हैं क्या मुख, क्या अग्नि और क्या है चित्ता,

दसों द्वार " उसके " हैं क्या नेत्र, क्या बुद्धि और क्या रित-रीता,
करम गति को जान लो भैय्या,
भगत वही जो स्वयं को लेता है मिटटा
कहता है 'मनीष'
जो है तेरा मन-मित्ता...