Sunday, July 29, 2012

Re-birth or Re-incarnation....!!

या मेरे मौला,
या मेरे रहीम-ओ-करीम,
सल्ललाहो अलिही वसल्लम...,

तेरी शान में एक और गुस्ताखी कर रहा हूँ मैं
तेरे मर्तबे से एक और गद्दारी कर रहा हूँ मैं

इन दुखी-बीमार लोगों के जहाँ से होकर के परेशान
तेरी जान तुझे वापस करने की हिमाक़त कर रहा हूँ मैं

हाँ मेरे हुजुर-ए-पाक शाह...
एक बार फिर ये रिश्ता तोड़ रहा हूँ मैं
हाँ मेरे ख्वाजा गरीब नवाज...
एक बार और ये गुनाह कर रहा हूँ मैं

कसम खाता हूँ की मैं भी इन जैसा दुखी और बीमार हो जाऊँगा
तेरी काएनात को एक बार और दोजख में बदलने की तैय्यारी कर रहा हूँ मैं

कोई मतलब ना रखूँगा मैं अब किसी से भी कोई
बेमतलब तेरे जहानी रुतबे को खामखाँ मतलबी कर रहा हूँ मैं

बदल डालूँगा मैं खुद को या खुदाया तेरी इस खुदाई में
तेरी दी हुई इस रूह को आज जिबह कर रहा हूँ मैं

बक्श दे मुझे भी इश्क और ईमान की गुलामी से तू
तेरी दी हुई आज़ादी से आज तौबा करना चाहता हूँ मैं

चीड़ होने लगी है मुझे अब मेरे होने से
तेरे वजूद को आज खुद से खारिज कर रहा हूँ मैं

तरस खा ले तू आज मुझ दीवाने वारसी पर ए मेरे मौला
देख ये क्या गज़ब कर रहा हूँ मैं...

This ghazal or call it whatever you like, came out of me just before my 43rd birthday on 27th March.
Next day, that is on 28th March 2012 my head went through a fatal accident in a Shiv temple in Ujjain.
That temple has come alive into picture because of the junoon of my kaamil murshid ( Satguru) who 27 years before now was a gangster, a don, a famous student leader called Pappu Vidhyarthi.
The don lost his younger spiritual brother when he was brutally murdered by a group of 8 people who were enemies of the don.
The don was in jail at that time.
When the don came out of jail people thought that the don will definately take revenge from those 8 people but something godly has happened in the jail which completely transformed the don.
Since last 27 years the don has continued to seek forgiveness from Almighty and he does it every minute of his life even now when the lord has indeed firgiven him for his crimes and transformed him into a saint, a fakir, a baba now.
His Satguru gave him anew name called Pandit Bedaar Shah Waarsi which very few people of Ujjain are aware about as they are still stuck with his past life.
For such people of the town he is still Pappu Vidhyaarthi - a goonda, a murderer, a don.
He kept me in his lap for 9 hours that night when my head brutally fell on a concrete ground and prayed and kept on begging Almighty for survival of a body which indeed was full of an egoistic and angry mind but also had a soulful spirit full of love and innocent heart.
My head went through one and half hours of neurosurgery at Gokuldas hospital in Indore on 29th March, 2012.
By His grace my spirit is still alive and doing well to heal me from the sadness and sickness of my egoistic and angry mind.


Thursday, July 19, 2012

Wanna Know intentions behind Amir Khan's Tv show Satya Mev Jayte.......??

Dear Mr Pritish Nandi,

Read your article 'सत्यमेव जयते' के मायने on the editorial page of today that is 19th july, 2012 Dainik Bhaskar newspaper.

By reading the very first and last line of your article it becomes apparently clear to me that you, as a journalist, are very well aware of the INTENTION or MANSHA of Amir Khan's effort to host and produce a Tv programme like Satya Mev Jayte, which you keep on repeatedly questioning, judging and mentioning in your article.

I am "Priti" (pun intended) much sure that you keep on investigating Amir Khan's intention in your article in order to push the readers and the journalist lobby to think as to what they, as an individual are doing in their day to day life to take up a brave stand on important social issues raised in Satya Mev Jayte. I feel that you want the people of India to change themselves if they really want Indian System or Society to change. I appreciate the way you instigate the readers, fan followers and opposers of Amir Khan and Satya Mev Jayte.

Yes - indeed, that is the INTENTION or MANSHA of Amir Khan and Satya Mev Jayte too. They do not want to wait for some Gandhi or Subhash Chandra Bose or Azaad or Jaynarayan or Anna Hazaare type of leader to lead Or guide Indian society to reach their final destination of peace and bliss. They are the Sufis of today's world who do not even want to pathetically depend on some kind of AVATAR to take birth in India to serve Indain society with some kind of magical or godly solution to the soulful, spiritual and yet dependent people of India.

Indians today, do need to serve themselves by carefully listening to the voice of their own conscience if they really want to change the scenario or situation of the place and life they live in. Their positive wish or will should not end up when the show ends by getting emotional and shedding tears on what Satya they observe during the show. In fact, their day to day deeds should reflect their positive deed and thinking by really trusting that Truth Always Prevails - Satya Mev Jayte.

Thanks for understanding all this and more and helping Amir in his selfless effort and why will you not understand the intention..??

After all, you indeed are a "Nandi"( pun intended again).

May Lord "Shiva" bless you.


Sunday, July 15, 2012

FACEBOOKISH - दैनिक भास्करी


Please do read "Dainik Bhaskar" newspaper's Ujjain version if you, not face bookishly, but really want to know and understand what this article is all about or else do whatever your intellectual mind leads you to do.

१३ जुलाई, २०१२

जनता जब खुद ही अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभाये अनदेखी, भ्रष्टाचार और मनमानी करने की दैनिक भास्करियों की तरह सफल और सबसे बड़ा समूह होने के लिए तो फिर क्या हक है उसे की किसी राजनेता, पदाधिकारी या व्याभिचारी को जिम्मेदार ठहराए..??
बादल जो गरजते हैं बरसते नहीं मियाँ और जो बरसते हैं वो गरजने का ढोंग नहीं करते मियाँ बल्कि खुद को इश्क की बिजली से भस्म कर बनते हैं धरती माँ के सपूताए...
हो जाते हैं वो खुद ही निर्मल सुभाए...
बंद करो ये दैनिक भास्करी नोटंकी, ये बकवास, ये सनसनी
हो जाओ खुद पहले इमानदार और ईमान के दास फिर करना उपयोग कबीर नाम का ये कहने को की कहत कबीर लजाये...
दरस ये देख उज्जैनी दीवाने वारसी को तो सच बहुत ही लाज आए...
ॐ नमः शिवाय
ॐ नमः शिवाय

१४ जुलाई, २०१२

जो पालक पाई-पाई बचाने के फेर में खुद ही अपने बच्चों को ऑटो रिक्शों में ठूस्वा रहें हैं वो क्या ख़ाक ध्यान देंगे खुद पर, नैतिकता पर या सुरक्षा के नियमो पर...
गरीब ऑटो चालकों को तो सुधारने के अभियान में भीड़ गए हैं ये दैनिक भास्करी
स्वयं के अन्दर स्थापित कल्पनाओं, उम्मीदों और दयनीय विचारों की भीड़ से क्या ख़ाक भिड़ेंगे ये स्वार्थी दैनिक भास्करी...

१५ जुलाई, २०१२

दैनिक भास्करियों को गर्व है आज मुहँ ढांक कर परम्परा अनुसार सिर्फ बोल-वचन करने पर
शर्म आ रही है आज उन्हें गुवाहटी पहुँच खिलखिला कर फोटो खीचवाने वालों पर
ठीक भी है भाई...
जो लोग आज तक खुद मुहँ छिपाते रहें अपने-आप से और अपने अन्दर विराजित पूर्ण सत्य से 
वे गर्व ही तो करेंगे सिर्फ बोल-वचनों की दुनिया से
जो लोग खुद ही खिलखिला कर डूबे रहें आज तक विज्ञापन और सनसनी पैदा करने वाले फोटो खीचने की होड़ में
उन्हें कभी तो शर्मिंदा होना ही था अपनी नामी-गिरामी सफलता के अहंकार स्वरुप को सरेआम नग्न होता देख...
खा ख़ाक करेंगे वे इस मानसिक विकारों की मनोस्थिति से पार होने के प्रयास उनके लिए तो है ये मात्र दिलवाले दीवानों का दुस्साहस
कहे ये एक दीवाना वारसी रख कर कलेजे में मानव मन से आस
लेकर के दिल में मोहब्बत भरा एहसास...


नहीं चाहिए कुछ भी हमें इस मतलबी जहाँ से
बिन मांगे ही 'सबकुछ' बक्श दिया है हमें
कुदरत ने अपने विधान से
शिवशंकर हमारे
भोलेनाथ हमारे
बड़े ही कृपानिधान
ॐ नमः शिवाय
ॐ नमः शिवाय
ॐ नमः शिवाय

Sunday, July 1, 2012

बात पते की...सुविचार

Media keeps on confusing us with half-truths
one line sentences...

Just as Dainik Bhakar newspaper wrote a one liner of Swami Vivekanand:

"दूसरों के अवगुणों की चर्चा करना
स्वयं के अवगुणों को प्रकट करना है"

Now, i am pretty sure that Swamiji must have said the above statement as a part of the whole lecture on the subject of non-duality or realizing self but media, as is their habit whether it comes to news or facts, confuses us.

दूसरों के अवगुणों की चर्चा करना जब
स्वयं के अवगुणों को अद्वितीय रूप से प्रकट करना है स्वामी..
क्यूँ ना हम उन अवगुणों का अवलोकन कर,
उन्हें प्रचारित कर,
उनसे लाभ उठाने के बजाये,
उन्हें सगुणों में रूपांतरित करने की साधना करें स्वामी....??

Please go through few more examples of Dainik Bhaskar's ridiculous sense of using one liners:

बात पते की...सुविचार

३१ मई, २०१२

"अपनी कद्र करना चाहते हो तो अपनी वाणी की कद्र करना सीखो I कम बोलो, काम का बोलो I
                                                       - मुनिश्री तरूनसागर      
कम बोलना सीख रहा हूँ मुनिश्री,
काम का भी बोलूँ या चुप ही रहूँ मुनिश्री,
समाज तो आप जैसे कद्र्धारी और क्रांतिकारी को भी
कड़वे वचनों का मुनि कहता है मुनिश्री....!!

हक़ीक़त वो है
जो तुम मानते हो, जानते हो और
दिल ही दिल महसूस करते हो....,
बाकी सब तो बस
ख्याल है, माया है और है दिमागी भरम...
a kind of dim_aag so to speak !!

५ जून, २०१२

"सार्थक और प्रभावी उपदेश वह है, जो वाणी से नहीं अपने आचरण से प्रस्तुत किया जाता है I "
                                                       - पंडित श्रीराम शर्मा

कृष्ण का गीता के माध्यम से
हमें और अर्जुन को ज्ञान देकर
अधर्म और अन्याय के विरुद्ध "युद्ध कर" कहना भी
अभिमानपूर्वक उपदेश देना ही था क्या....?
"Human beings are godly products
of a unique sperm fusing with a unique ova
out of the catalyst of love...
Does not matter what their egoistic mind thinks or makes them later on."

६ जून, २०१२

"जो दुसरो को जानता है वो विद्वान् है,
और जो खुद को जानता है वो ज्ञानी है I"
                                                                 - लाओत्से
"असफल व्यक्तियों में से निन्यानवे प्रतिशत वे लोग होते हैं,
 जिनकी आदत बहाने बनाने की होती है I"
                                                  - George Washington Carvar

लाओत्से तो George Washington जैसे अभिमानियों को
जो name fame money
कमाने वालों को ही सफल मानते हैं को
ज्ञानी क्या विद्वान् भी ना कह पाते....!!

इश्क आजमाने वालों को इश्क नहीं
इल्म है किताबी
वफ़ा से है इश्क जिन्हें
उनकी अक्ल में है खराबी
विरानगी ही हक़ीक़त बनी रहेगी उनकी
ज़िन्दगी जी रहें जो
बन के साहब नवाबी....!!

८ जून, २०१२

Today i read Shri Mander Harsh's article "आखिर गरीबी के माईने क्या?" on the editorial page of Dainik Bhaskar newspaper...
i am in shock and ashamed to consider myself poor.

हालात वैसे ही होते हैं
जैसा हमारा इल्म-ए-वक़्त होता है
किसी के लिए पानी का ग्लास आधा भरा हुआ
किसी के लिए आधा खाली होता है...
सूफियों के लिए मगर
वो प्यास बुझाने का ज़रिया होता है I

वक़्त तो एक जैसा ही होता है मेरी जान..!!
हाँ लेकिन..,
मेरा एक तरफ़ा देखने वाला मनवा जरुर
एक ही वक़्त में पैदा कर लेता है कई-कई तूफ़ान..!!

आमिर खां साहब
४० करोड़ लोगों के
सिर्फ कानों या आँखों में नहीं पहुँचते
वे दिल में इस कदर समा जाते हैं
उनसे जलने वाले लोगों को भी
मजबूरन अच्छाई का नकाब ओढ़ना पड़ता है...!!

१३ जून, २०१२

"हमारा लेखन ऐसा नहीं होना चाहिए की पाठक हमें समझ पायें, बल्कि ऐसा होना चाहिए की वह किसी भी तरह हमें गलत ना समझ जाए I "
                                                                           - क्विन्तिलियं

लेखक गलत ना समझे जाने के चक्कर में
वो लिख बैठता है जो राजनितिक है
समझने वाले तो
उस जीसस के कहे को भी गलत समझ बैठते हैं
जो पूरी तरह से आध्यात्मिक है
तो क्या करें..??
क्विंटल से राजनितिक हो जाएँ
तोले से आध्यात्मिक रहें..??

मनीष तो सीधा ही बोलता है
ये खडूस मन उसके चाल-चलन और उसके बोल-वचन को
उल्टा साबित कर देता है
क्या करें..
की मसला रूहानी के बजाये
जिस्मानी और बातूनी होता जाता है
ज़र्फ़ दिलों का खोता चला जाता है
इल्म इश्क पे हावी हो जाता है...
तुम्हारे इस मुरीद पर रहम बक्शो
या वारिस पाक शाह....!!
या ख्वाजा गरीब नवाज....!!
शुक्रगुज़ार हूँ आपका मैं सरकार
बक्श दी मुफ्त में ही हम गरीबों को नेमतें हज़ार
कोई इस रंग में है
कोई उस रंग में है...
एक ही रंग से सतरंगी रंग दियो संसार....!!

१६ जून, २०१२

टाइम मैगज़ीन और हॉवर्ड बिजनेस रिव्यू सिर्फ दैनिक भास्कर के साथ

देखो अब "दैनिक भास्कर" का दस्तूर
बड़ा हुआ तो क्या हुआ जैसे पेड़ खजूर
पंथी को छाया नाही फल लागत अति दूर
रंग बदलत है गिरगिट ऊपर-ऊपर को
भीतर-भीतर रहत मगरूर...

१८ जून, २०१२

"बदलाव" को केंद्र बनाए हुए है आज के दैनिक भास्कर का सम्पादकीय पृष्ठ
वाह टोनी जोसेफ भाई वाह..!!

"इन्सान वो नहीं जो हवा के साथ बदले
इन्सान वो जो हवा का रुख बदले"
हमारे मनमोहन सिंह मगर ना बदले...
"जीवन है आल पिन
दो ही तरीके हैं जीने के
या तो सहमत या सह मत"
                                        - कवी प्रदीप चौबे
विजय मंज़िल पाने में नहीं
विजय कोशिश करने में है सिंह..!!

२० जून,२०१२

"इतने भगवान् और इतने धर्म और इतनी घुमावदार राहें I सिर्फ करूणा की कला की जरुरत है इस दुखी संसार को I"
                                                - Ella Wheeler Wilkoks

अब व्हीलर साहब ने भी करूणा का एक और धर्म रच दिया,
आज सुप्रीम कोर्ट ने पाक पम को अयोग्य कह दिया,
भक्त को विदेशी कह भास्कर भी आग उगले,
शुक्र दरगाही उत्सवों की
क गब्बर बोल उठा की
साला नरेन्द्र मोदी और मनमोहन सिंह आज फिर बच गया..!!

२१ जून, २०१२
मुख पृष्ठ के समाचारों की सुर्खियाँ :

कुदरत की चुक कहता है जिसे दैनिक भास्कर
ये कह क्या वो विज्ञान को इलाही
और खुद को मगरूर नहीं कह रहा..??
है अगर इतना ही महान वो
ये स्तुति-आराधना-प्रार्थना भी क्यूँ..??
कर ले ना वो अपने ही दम पर हर मुराद पूरी
बना ले ना इन्सान को इस जगत की धुरी
गोद पर्तिक्ले धुन्धने की ऐसे क्या है मज़बूरी..??
या फिर
छपे ना बातें आधी-अधूरी....!!

नज़र-नज़र का फेर है मेरा दाता
किसी को मंदिर, मस्जिद, चुर्च के अन्दर
किसी को कुदरत के हर तत्व में वो ही रोशन नज़र है आता....!!
बक्श हमें नज़र तेरी, दीदार तेरा ओ मेरे दाता....!!

75% of Dainik Bhaskar newspaper, most of the TIME is full of advertisements.
25% of it is news and most of them are either negative, half or pathetic.
Why does DB indulge in so much victimisation of its own readers....??
Is SUN (bhaskar) transforming into EARTH....??
Re ply soon !!

२३ जून, २०१२

Who is Dainik Bhaskar to decide who are the ICON's of UJJAIN?
Is being a regular advertisement provider to Dainik Bhaskar an important criteria?
Did Dainik Bhaskar conduct any professional survey to print and decide the ICON's of UJJAIN?
Can Dainik Bhaskar reply?

२३ जून, २०१२

"बोलना अगर चांदी है तो चुप रहना सोना I चुप रहना जीवन की एक बड़ी साधना है I"
                                       - मुनिश्री तरून्सागर

क्या हमें ज्वेलर समझा है मुनिश्री जो हम सोने-चांदी के चक्कर में कुय्च करेंगे..??
हम उसी लिए बोलते हैं मुनिश्री की जिसलिए आप..
चुप रहें हम क्यूँ
जब मौन की साधना करो ना तुम..??

२५ जून,२०१२

देशभर में IMA के doctors हड़ताल पर:
इमा को नहीं करवाना है खुद का उपचार,
Doctors का साथ देने हेतु तुरंत खड़े हुए M.R ,
क्यूँ ना हों..??
क मरीज nahi doctors देते हैं उन्हें व्यापार,
वाह मेरे यारों के यार !!
२६ जून, २०१२

हम अगर किसी की चीज की कल्पना कर सकते हैं तो उसे साकार भी कर सकते हैं I 
   - nepolean hill

nepolean hill से पुछा जाए की क्या उनकी खुद की सारी कल्पनाएँ साकार हुईं..??
हुईं भी अगर तो मौत की सुई निराकार हुई क्या..??
जागो दैनिक भास्कर जागो !!

२७ जून, २०१२

"जो लूटाओगे वही लौटकर आएगा I फुल लुटाओगे तो फुल मिलेंगे और कांटे लूटोगे तो कांटे I "
                         - मुनिश्री तरूणसागर

एक  फुल आप भी स्वीकार करें मुनिश्री,
मिलने-खोने के पार आ जाएँ मुनिश्री,
तरूणता में भी सागर ही हैं आप,
अर्ध-सत्य वचनों को यूँ ना लुटाएं मुनिश्री...

28 june,2012

"छोटे लोग आपकी महत्वाकांक्षाओं को तूच्छ बनाने का प्रयास करते हैं, वहीँ महान लोग महान बनने की प्रेरणा देते हैं I"
                                                                                   - मार्क ट्वैन           
महान बनने की महत्त्व आकांक्षा आपको मार्क ट्वैन सा दार्शनिक या शाह रुख खां सा सफल तो बना सकती है
साईं बाबा जैसा भगवान् या आमिर खां जैसा प्रेमी इन्सान नहीं बना सकती...नहीं कभी नहीं - कदापि नहीं
जागो भास्कारी जागो !!

No one liners please - present us between the liners please.

२९ जून, २०१२
"संदेह का कार्य और परिणाम क्षय रोग के कीटाणु की तरह होता है I
मनुष्य के विनाश का वही जन्मदाता है I"
                                                                         - श्री सत्यसाई
संदेह ना किया होता श्री सत्य साईं पर
तो जान ही ना पाते हम की वो साईं नहीं
क्षय रोग से पीड़ित महज एक मदारी है
धन और वैभव का पुजारी है
संदेह तत्व ही तो मूल में है
समस्त वैज्ञानिक अविष्कारों के पीछे
आप ही बताएँ
कैसे जान पायेंगे हम सत्य
गर संत हमारे निर्मल बाबा जैसे व्यापारी हैं
ऐसे गुरु तो चाहेंगे ही
की उनके शिष्य उनपर संदेह ना करें
और सदा बने रहें एकदम आज्ञाकारी
विनाश की बात पते की होकर भी
हो सकती अज्ञानकारी है
बोलो दैनिक भास्कर बोलो
मन की आँखें खोलो इ

३० जून, २०१२
"लोगों के साथ सामंजस्य बना कर रहना सफल होने का महत्वपूर्ण सूत्र है I" 
लोगों के साथ सामंजस्य बना कर तो निर्मल बाबा और हिटलर जैसी आत्माओं ने भी क्षणिक सफलता प्राप्त कर ली थी दैनिक भास्कारी जी
ये सफलता महत्त्व पूर्ण नहीं अयोग्य पूर्ण ही रही...