Monday, November 25, 2013


I've just voted in a Cambridge school courtyard in Ujjain - M.P. State Assembly elections and practiced not only my right but also my responsibility as a citizen of India. I don't know why but this article or write-up is what my inner voice is intuiting me to share with all of you.

Please do read it carefully and not only honour but also oblige my basic instincts.

"When I teach English composition, I require students to write in class. I know that in-class writing is their own work, so in this way I become familiar with each student's writing 'voice' and am able to detect if they "borrow" a bit too heavily from another writer. Students are surprised to learn that their writing voice-which includes what they say as well as how they say it-is as distinctive as their speaking voice. Just as the words we speak come from our hearts, so do the words we write. They reveal who we are.

We become familiar with our own inner voice of conscience in much the same way. By reading what It has written, we learn who or what IT is and how It expresses Itself - call IT love or god as you please.

Satan, however, tries to make himself sound like god. By using divine words in a slightly altered fashion, he comes up with convincing arguments for things that are untrue. For example, by convincing people to do things that simulate godliness or loveliness, such as trusting in an outward regimen of self-discipline rather than its own egoist mind's death for salvation. Satan has led many astray.

Love/god went to extremes to make sure we'd recognize Its voice. It not only gave us Its word, It gave us the word made flesh - Messiahs/Gurus/Teachers/Prophets/... - so that we will not be easily deceived or misled."
                                   - Abridged article of Julie Ackerman Link

Instill within my heart, dear Love/Lord,
A deep desire to know Your word,
I want to learn to hear your voice
That I may make Your will my choice.
                                                         - D. Dehaan


Sunday, November 24, 2013

नमोकारी टंकार - NamoNaad

 नमोकारी टंकार 

नरे-नरे न से, नर-नारियों से और नारों से ही भरे हुए हैं जो फेंकूचंद वाचाल,
रच रहे हैं वो नेताओ कि नीतियों का स्वयंभू जंजाल,
महाकाल का अभिषेक करते वक़्त भी जो घुटने ना टेक सके,
वो मोदी नहीं प्रेम का, ये है प्रम पद का मोह-माया जाल ;-)

बेरोजगारी का दर जो घट गया
तो यूँ समझ लो 
रोजगारों को शोषित करने का स्तर और बढ़ गया
शोषित होना या शोषित करना पुरातन प्रथा हो जिस समाज कि 
वहाँ तो बस ये जान लो कि अमीरों को भाग्य से एक और गरीब मिल गया ;-)   

निर्माण कार्य को ही रोजगार समझता है जो नादान 
वो क्या ख़ाक जानेगा महाकालेश्वर प्रेरित निर्वाण 

बेहतर है कि कुछ तय ही ना किया जाए यहाँ 
खासतौर से तब जब कुछ भी तयशुदा नहीं यहाँ 

लय से लव करा, मोहबात से मोहब्बत कि इबादत करा इंसान
मोहब्बत करा, मोहब्बत करा, मोहब्बत करा ओह अनजान 

याद करने कि जरुरत उन्हें पड़ती है 
जो भूल जाते हैं सांस लेने का मकान 

सांसें लेना ही अपराध लगे जिसे तेरे बिना 
तू ही बता फिर क्या करे वो आशिक़ गुलफाम 

रह लो जब तक तुम रहना चाहो इल्म के दलदल में 
हम आबाद हैं डूबकर इश्क़ के दरिया में जानेजान 

गरीब हैं ऐसे हम कि खुद को गरीब भी नहीं कह सकते
दे सकते हैं दिल हज़ारों को पर तुझे नहीं दे सकते मेरी जान 

अब तुम्हे नींद नहीं आती तो कोई और वजह होगी 
तुम्हारे हर ऐब के हम जोड़ीदार सही, जिम्मेदार नहीं मदाम 

हम-तुम हैं या तुम-हम हो, पता नहीं? 
पता सिर्फ इतना कि हमतुम एक हो या ना हों 
रहता तुम्हारे-हमारे बीच कोई 'वो' नहीं, अहम् नहीं आवाम 

तेरी कमी भी है तेरा एहसास भी है, तू दूर भी है मेरे पास भी है 
खुदा ने कुछ यूँ नवाजा है तुम्हारे वजूद से मुझे मोहतरमा  
कि उसका शुक्र भी है और खुद पर नाज़ भी है      

मैडम को चित्त करने के प्रलोभन में अपने ही पुरखो को कह गया वो बोड़म
 नाम बूझने पर कोई नव कमल न खिलेंगे इतना बेकल वो नमो नम 

लगता है क़यामत के दिन ही अब वो चांदनी रात आएगी 
जब चाँद खिलेगा और रंग और नूर कि बरात साथ आएगी 
तब तक तो बस यूँ ही सुबह होगी, शाम होगी 
ज़िन्दगी यूँ ही तमाम होगी 

रंगो के भेद में उलझ गया जो 
रंगीन दुनिया देखने को तरस गया वो 
खुशरंग हीना का दर्द वो क्या जाने 
सतरंगी माया में उलझ गया जो 

 O Man_Jeete Jag_Jeet

पहले पहल सरदार पटेल को गुज्जु समझने कि भूल 
फिर जब एक पंजाबी सरदार ने हिला दिया मूल 
तो नमो नामक हिंदूवादी सरदार को याद आ गए सभी पंचतत्व मूल-चूल
देखते जाओ तमाशा मेरे हमवतन साथियों 
कि अभी बाकी है देखना नानी माँ कि दोधारी शूल ;-)  

बोलो बम बम भोले बम बम भोले भोले बम बम
बगड़ बम बम बगड़ बम बम बगड़ बम बम ;-)  

Man is bad case....isn't it?

Sunday, November 10, 2013


POLEMIC: a polemic is a very strong written or spoken attack on, or defence of, a particular belief or opinion.

"A transfer of attention, on the part of science, from purely physical problems to questions of consciousness will truly lead us to the infinite world of "new physics" where there will be no dualism of rest & motion, and no diplomacy of matter & vacuum.
Everything finite is an illusion in an infinite world."
                                                                        - Professor P.D.Ouspensky

The microscopic living cell is more powerful than a volcano - the idea is more powerful than the geological cataclysm.
Time & Space are necessary properties of world but not of consciousness.

I am not interested in religion if being "religious" means just regularly following a set of traditional customs, rituals or rules so that we can look good outwardly but remain full of hypocrisy and lawlessness inside instead of enjoying a loving relationship with the Almighty.
There are numerous God-fearing people but God-loving there aren't many.

"There is no greater error or sin than to regard the world is 'divided' into phenomena & noumena.
This is philosophic illiteracy, which shows itself most clearly in the dualistic 'spiritistic' theories. The division into phenomena & noumena exists only in our minds. The 'phenomenal world' is simply our incorrect perception of the world.

One who is materialistic enough to make a selfish use of even as sacred a thing as devotional SELF-SACRIFICE to gain some or the other beneficial value instead of getting content with the feeling of immense benediction, is a valueless devilish personality with mean attitude.

Oh yes...
I'm gorgeous inside 
Oasis* I'm not 
My genesis* difficult to find 
Arc* mine is indiscriptively defined 
Arcade* I'm yet to find 
Righteousness is my heartfelt tide 
Characteristic beauty is my natural pride 
Arcane* I'm in a crevasse* cave 
Manna* waves just behind 

[Oasis* - a small area in a desert where water and plant are found. Genesis* - of something is its beginning, birth, or creation. Arc* - a smoothly curving line or movement. Arcade* - a covered passage where there are shops or market stalls. Arcane* - secret or mysterious. Crevasse* - a large, deep crack in thick ice or rock. Manna* - something unexpected is manna from heaven, means that it is good and happened just at the time it was needed.]

It is not at all human nature to want this or that is the human mind that deduces us.
Mannish mistake is its illusionary vision which willingly allows its own mechanical mind to rule over its physical body & spiritual soul.

Blissful though, never compromises with the truth - neither politically, nor ridiculously. It acts as per the need of the time & thinks not about the forthcoming results.
This then is the key to live a karmayogic life.
Accept it or reject it my dear - the choice is, was & will be always yours & yours only.

If Shaitaan canturn love into indifference, God can change indifference back into love. God's power to restore is stronger than Shaitaan's power to destroy.

How do you define success?
For me; success is a SUCKingly greedy & SEXy disorder of human mind which unables us to get satisfied with life - as it is in now & here only to find out sooner or later that in fact it is nowhere.

Love is all about giving, giving, giving and keeping on giving till the last breath of this metaphysical life.
What we then get is beyond our imagination though.

Rejoicing it is to know that you are reviled, persecuted and honoured with evilgod medals of falsity for loving without any expectation whatsoever.
Remember, S/he who does not love does not know God, for God is love.

This too is a polemic attack -non-verbal type though ;-)

Man is bad case....isn't it?

Wednesday, November 6, 2013

शतरंज के खेल में CHECKMATE

मंशाएँ  रो-रोकर ही निसार होती हैं
हसरतें दबे होंठों से ही गुलज़ार होती हैं
अरमान मचल-मचलकर यूँ ही रोशन करते रहते हैं ख्वाबगाह
ख्वाहिशें तमाम यूँ ही नहीं इतनी दिलदार होती हैं

उसकी नज़रों से नज़रें आज मिला आया हूँ मैं
चुन्घिया गयी हैं आँखें जो सूरज से आँख लड़ा आया हूँ मैं
ज़माना कह रहा अब मुझे अँधा तो बेगाना कहे पापी
गुमनाम अंधेरों में अपनी लैला से अँखियाँ दो-चार जो कर आया हूँ मैं

इश्क़ ही शिव है, इश्क़ ही शक्ति है
नाज़-ओ-अदा हैं कभी उमा के
तो कभी भोले शंकर कि रुद्रात्मक सख्ती है
यही हैं इश्क़ के जलवे और यही इश्क़परस्ती है

ना तक़दीर बदलती है, ना तस्वीर बदलती है हुए हम जबसे नादान इश्क़ में,
ना तैरना आता है, ना डूबने का हक़ हमें है हासिल हुए जबसे हम गिरफ्तार इश्क़ में

रख हौसला वो दिन भी आएगा,
प्यासे के पास चल के खुद दरिया आएगा,
यूँ थक कर ना बैठ ऐ राह-ऐ-मंज़िल के हमसफ़र मुसाफिर,
मंज़िल भी आयगी और चलने का मज़ा भी आएगा

तेरी प्यारी सी उम्मीद कैसे तोड़ जाऊँ,
तू ख्वाब देखे तो मैं नज़र कैसे ना आऊँ,
कुछ तो बात है हमारे इस रिश्ते में,
क्या आपके कदम नहीं कहते आपसे कि चल एक बार मिला लाऊँ

दुआओं में कमजर्फ मंतशा कर 'उसकी' रहमदिली को मैं शर्मिंदा करता चला गया,
'वो' देना चाहता था 'सबकुछ' और मैं नाकुछ बहुत कुछ मांगता ही चला गया

शतरंज के खेल में;
एक अदना से वज़ीर को रानी समझने कि भूल कर बैठे बाबा लोगों के मुरीद,
मात देने कि चाह में अमावस रातों कि रानी के गुलाम हो बैठे ये डॉलरों के मुरीद

प्रगतिपूर्ण जरुरत इस बात को जान लेने कि नहीं
कि कोई आपको कितना चाहता है
बल्कि इस बात में है कि क्या आप खुद सचमुच किसीको दिल से चाहते हैं
या बस प्यार के मतलबी व्यापारी और असल में धन के पुजारी हैं?

हम तो सदियों से ही अकेले हैं
बस दिल कि ही गलियों में खेले हैं
तन्हाई माशूक़ा हुई जबसे हमारी
आठ पहर चौसठ घड़ी हर सूं लग रहे दिलकश मेले हैं

ना पीपल का रुखा पत्ता बनना है मुझे, ना मेहंदी का रुतबा हासिल करना है मुझे,
किसी चूहे को हाथी बनने का ख्वाब बुनते ना देख ये सीखा है मैंने
जैसा बनाना चाहते है मुझे मेरा खुद बस वैसा ही बनना है मुझे   

yo yo भगत मनीष - yo यो दुर्गे शक्ति

Man is bad case....isn't it?